आजादी का अमृत महोत्सव: हर घर तिरंगा अभियान से पहले जान लें झंडा संहिता

- Advertisement -

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: हर घर तिरंगा अभियान को लेकर देश के आम नागरिकों के अलावा तमाम सरकारी विभाग, मंत्रालय के साथ ही निजी कंपनियां भी तैयारी कर रही है। दरअसल, हाल ही में आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में पीएम मोदी ने हर घर तिरंगा अभियान की घोषणा की है। वहीं  ‘मन की बात’ कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत, 13 से 15 अगस्त तक, एक स्पेशल मूवमेंट – ‘हर घर तिरंगा- हर घर तिरंगा’ का आयोजन किया जा रहा है। इस आंदोलन का हिस्सा बनकर 13 से 15 अगस्त तक आप अपने प्रतिष्ठानों और घरों पर तिरंगा जरुर फहराएं या उसे अपने घर पर लगायें। उन्होंने कहा कि तिरंगा हमें जोड़ता है, हमें देश के लिए कुछ करने के लिए प्रेरित करता है।

हर घर तिरंगा अभियान का मुख्य उद्देश्य

हर घर तिरंगा अभियान का मुख्य उद्देश्य देशवासियों को अपने घर पर राष्ट्रीय ध्वज लगाने के लिए प्रेरित करना है।  जनसामान्य में देशभक्ति की भावना जागृत करना तथा राष्ट्रीय ध्वज के बारे में जागरूकता उत्पन्न करना है। लेकिन झंडा फहराते समय झंडा संहिता का विशेष ध्यान रखा जाना अत्यंत आवश्यक  है।

जान लें क्या है झंडा संहिता

● भारत के राष्ट्रीय ध्वज जिसे तिरंगा भी कहते हैं तीन रंग की क्षैतिज पड़ियों के बीच नीले रंग के अशोक चक्र द्वारा सुशोभित ध्वज है।

● राष्ट्रीय ध्वज खादी, कॉटन, रेशम या पॉलिस्टर से ही निर्मित हो। इसकी लंबाई एवं चौड़ाई का अनुपात 2:3 होना चाहिए।

● राष्ट्रीय ध्वज इस तरह से लगाया जाना चाहिए कि केसरिया रंग सबसे ऊपर हो। बीच मे श्वेत नीचे हरा रंग होना चाहिए। सफेद पट्टी मे अशोक चक्र अंकित होना चाहिए जिसमे 24 तीलियां होनी चाहिए। ये तीलियां मनुष्य के अविद्या से दु:ख बारह तीलियां और दु:ख से निर्वाण बारह तीलियां (बुद्धत्व अर्थात अरहंत) की अवस्थाओं का प्रतिक है।

● राष्ट्रीय ध्वज को हाफ मास्ट (आधे घंटे) पर नहीं फहराया जाना चाहिए।

● ध्वज पर कुछ भी लिखा या छपा नहीं होना चाहिए।

● फटा हुआ या क्षतिग्रस्त राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहराना चाहिए।

● किसी भी स्थिति में राष्ट्रीय ध्वज जमीन पर टच नहीं होना चाहिए।

● किसी भी दूसरे झंडे को राष्ट्रीय झंडे के समीप ऊंचा नहीं रख सकते, न लगा सकते हैं।

● राष्ट्रीय ध्वज को क्षतिग्रस्त होने, गंदा होने या अभियान समाप्ति उपरांत सार्वजनिक स्थल पर या ऐसे स्थान पर नहीं फेंका जाना चाहिए, जिससे ध्वज के सम्मान को ठेस पहुंचे।

● राष्ट्रीय ध्वज को हर घर तिरंगा अभियान की समाप्ति पर निजी तौर पर धोकर तथा तदुपरांत सहेज कर घर में ही सुरक्षित स्थान पर रखा जाना चाहिए।

पीएम का सुझाव- तिरंगा को बनाए प्रोफाइल पिक्चर

पीएम मोदी ने आगे सुझाव देते हुए कहा कि 2 अगस्त से 15 अगस्त तक, हम सभी, अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल पिक्चर (Social Media Profile Pictures) में तिरंगा लगा सकते हैं। दरअसल 2 अगस्त का हमारे तिरंगे से एक विशेष संबंध भी है। इसी दिन पिंगली वेंकैया जी की जन्म-जयंती होती है, जिन्होंने हमारे राष्ट्रीय ध्वज को design किया था। मैं उन्हें, आदरपूर्वक श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। अपने राष्ट्रीय ध्वज के बारे में बात करते हुए मैं, महान क्रांतिकारी मदम कामा को भी याद करूंगा। तिरंगे को आकार देने में उनकी भूमिका बेहद महत्वपूर्ण रही है।

वहीं तिरंगा अभियान के तहत भारत सरकार ने पूरे देश में झंडे की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कई कदम उठाए हैं। देश के सभी डाकघर 1 अगस्त से झंडे बेचना शुरू कर दिए हैं।

ऑनलाइन भी ले सकते हैं हिस्सा

ऐसे लोग जो किसी कारणवश घर पर तिरंगा नहीं फहरा पा रहे हैं, वो इस अभियान में ऑनलाइन भी जुड़ सकते हैं। संस्कृति मंत्रालय ने एक वेबसाइट https://harghartirang.com लॉन्च की है, जहां कोई भी ‘झंडा लगा सकता है’ और अपनी देशभक्ति दिखाने के लिए ‘फ्लैग के साथ सेल्फी’ भी पोस्ट कर सकता है।

 

 

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
504FansLike
50FollowersFollow
800SubscribersSubscribe

नक्सलवाद पर सर्जिकल स्ट्राइक! देश का सबसे बड़ा सफल ऑपरेशन, गृह...

सुरक्षा बलों के जवानों ने 29 नक्सलियों को मार गिराया। इनमें से कुछ हार्डकोर नक्सली भी शामिल हैं। नक्सल मोर्चे पर पहली बार ऐसा...

Related News

- Advertisement -