नई दिल्ली/स्वराज टुडे: नेपाल में लागातार हो भारी बारिश से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सिंधुपालचौक जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण आई बाढ़ ने सात लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई लोग लापता बताए जा रहे हैं। मोचल शहर कीचड़ और पानी की मोटी परत में डूबा हुआ है। अधिकारियों के मुताबिक, कस्बे में करीब 200 घर आंशिक या पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

बाढ़ की वजह से स्थिति इतनी खराब हो गई है कि लोगों के घरों में पानी भर गया है। बिजली के खंभे भी टूटकर नीचे गिर गए हैं। यहां तक की लोगों को डेली इस्तेमाल होने वाली चीजों के लिए भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लातार हो रही भारी बारिश की वजह से यहां नदियों में पानी का स्तर बढ़ गया है। बीते बुधवार को जिला प्रशासन ने उम्मीद जताई थी कि बाढ़ मेलमची और इंद्रावती नदी के मुख्य स्रोत से उत्पन्न हुई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल के लुम्बिनी प्रदेश के ज्यादातर जिलों खासकर तराई क्षेत्रों का जनजीवन बाढ़ और भूस्खलन से अस्त-व्यस्त हो गया है। भूस्खलन के कारण सोनौली-पोखरा समेत कई प्रमुख रास्ते पूरी तरह से बंद हो गए हैं।

मालवाहक नेपाल में जहां-तहां फंसे हैं। मौसम विभाग ने नेपाल में तीन दिन और भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। हालात से निपटने के लिए सेना ने मोर्चा संभाल लिया है। तिब्बत के धौलागिरि से निकली गंडक नदी, राप्ती नदी, रोहिन नदी, चंदन नदी और प्यास नदी खतरे के निशान को पार कर चुकी हैं।

बता दें कि तिब्बत के धौलागिरि से निकली गंडक नदी नेपाल के त्रिवेणी से भारतीय बॉर्डर यूपी के महराजगंज में प्रवेश करने के बाद बिहार चली जाती है।