बीच बाजार खुलेआम गुंडागर्दी, तमाशबीन बन देखती रही पब्लिक, जानिए पुलिस भी क्यों हो गयी बेबस

- Advertisement -

छत्तीसगढ़
बिलासपुर/स्वराज टुडे: इन दिनों बिलासपुर में गुंडागर्दी कुछ ज्यादा ही बढ़ने लगी है। इसका जीता जागता उदाहरण गोल बाजार, सदर बाजार और श्रीकांत वर्मा मार्ग में भी देखने को मिला जहाँ थोड़ी सी बहसबाजी होने पर आपस में मारपीट होना आम बात हो चुकी है।

आखिर कब तक तमाशबीन बने रहेंगे लोग

पहला मामला सदर बाजार का है जहां 10 अगस्त की शाम 5 बजकर 54 मिनट पर एक कार चालक ने बाइक सवार परिवार को सरेराह मारा। इतना ही नहीं उसने गुस्से मे आकर कार में रखे बेसबाल तक से धुनाई कर दी।  ये सारी घटना लोग तमाशाबीन होकर देखते रहे । कोई भी पीड़ित परिवार की मदद करने की हिम्मत नहीं जुटा सका। और तो और किसी ने 112 की पुलिस टीम या पुलिस कंट्रोल रूम में सूचित करने की जहमत नहीं उठाई ।  यही वजह है कि युवक का हौसला बुलंदी को छूने लगा।  30 मिनट से ज्यादा तक कार सवार युवक ने अपनी गुंडागर्दी को लेकर उत्पात मचाता रहा ।

दूसरी घटना 11 अगस्त की शाम की है जहां श्रीकांत वर्मा मार्ग में मौसाजी होटल के सामने एक ठेले वाले के साथ 30 – 40 लड़के जरा सी बात पर मारपीट कर रहे थे। ठेले वाला युवक जब बुरी तरह घायल होकर गिर पड़ा तब सभी लड़के मौके से भाग खड़े हुए ।

गुंडागर्दी करने वालों के आगे इसलिए बेबस है पुलिस

दरअसल देखा जाये तो शहर में इन दिनों असामाजिक तत्वों और गुंडागर्दी करने वालो की पूरी जमात न्यायधानी की सड़कों पर घूम रही है। ऐसे लोगो पर पुलिस कार्रवाई भी नहीं कर पा रही है क्योंकि किसी का नेतागिरी में ज्यादा एप्रोच है तो कोई रसूखदार घराने से ताल्लुक रखता है। लिहाजा पुलिस भी इतनी हिम्मत नहीं जुटा पाती कि ऐसे गुंडा तत्वों पर कानूनी कार्रवाई कर सकें ।

क्या कानून का डंडा सिर्फ गरीबों के लिए

यहां यह कहना गलत नहीं होगा कि कानून का डंडा सिर्फ गरीब लोगों के लिए है । अप्रोच रखने वालों के लिए यह डंडा सिमटकर उनकी जेब में समा जाता है। फ़िलहाल देखना होगा कि इस तरह से खुलेआम गुंडागर्दी करने वालो पर पुलिस लगाम लगा पाती है या फिर सब कुछ इसी तरह से चलता रहेगा।

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
502FansLike
50FollowersFollow
800SubscribersSubscribe

अधिवक्ता संघ चुनाव के मतपत्रों की गिनती फिर से होः अधिवक्ता...

जिला अधिवक्ता संघ चुनाव में गड़बड़ी की आशंका को लेकर अधिवक्ताओं के एक वर्ग ने चुनाव अधिकारी को ज्ञापन सौंप कर पुनः मतगणना कराए...

Related News

- Advertisement -