मर्यादा लांघते ही विवाहित महिला पर टूटा मुसीबत का पहाड़, अश्लील वीडियो बनाने वाला बॉयफ्रेंड पहुंचा सलाखों के पीछे

- Advertisement -

छत्तीसगढ़
जांजगीर-चांपा/स्वराज टुडे: महिला प्रताड़ना एवं दुष्कर्म के मामले में केवल पुरुष वर्ग ही जिम्मेदार नहीं होता बल्कि  कभी- कभी महिलाओं की खुद की भागीदारी भी होती है।  युवतियों और महिलाओं की शिकायत पर जब पुलिस जांच शुरू करती है तो ये स्पष्ट सामने आ जाता है कि कहीं न कहीं उन्होंने खुद अपनी सुरक्षा के साथ लापरवाही बरती है या यूं कहें कि अपनी मर्यादा लांघी है ।

विवाहिता को बॉयफ्रेंड रखने की चुकानी पड़ी बड़ी कीमत

 

आरोपी युवक शारीरिक सम्बन्ध के लिए बनाने लगा दबाव

पीड़िता के मुताबिक़ आरोपी युवक अश्लील ऑडियो रिकार्ड के जरिये ब्लैकमेल कर उसे शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर कर रहा था। जब उसने संबंध बनाने से मना किया तो एक दिन उसके पति की अनुपस्थिति में वो घर में घुस कर कहने लगा कि यदि तुम मुझसे बात नहीं करोगे तो मैं तुम्हे बदनाम कर दूंगा और तेरे परिवार के सभी लोगों को जान से मार दूंगा। इसी वजह के चलते पीड़िता आरोपी के कहे अनुसार कपड़े उतार दी और इसका विरोध नहीं कर सकी।

मामले की गंभीरता को देख  पुलिस ने आरोपी को किया तत्काल गिरफ्तार

आरोपी युवक द्वारा अश्लील वीडियो बनाए जाने के बाद पीड़िता को अपनी गृहस्थी बर्बाद होने का खतरा  दिखाई देने लगा । लिहाजा उसने तत्काल इसकी शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराई । मामले की गंभीरता को देखते हुए  पुलिस ने आरोपी तिलक कुर्रे को उसके घर अमेराडीह से गिरफ्तार लिया। पूछताछ में उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

महिलाओं के विरुद्ध बढ़ते अपराधों से महिलाएं नहीं लेती सबक 

इस मामले में पीड़िता के दामन को भी पाक साफ नहीं कहा जा सकता । पति से छिपकर अपने पुरुष मित्र से अश्लील बातें करना कहां तक उचित है । आरोपी की धमकी से अपने कपड़े उतारते वक्त यह सोचना चाहिए था कि सामने वाले की मानसिकता कतई उचित नहीं हो सकती । आरोपी द्वारा वीडियो बनाए जाने पर भी इसका पुरजोर विरोध कर सकती थी लेकिन आरोपी अपने मकसद में सफल रहा ।

यहां ये सवाल भी उठता है कि आरोपी जब जान से मारने की धमकी देकर कपड़े उतरवा सकता है , तो वह दुष्कर्म की वारदात को भी अंजाम दे सकता था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया ।

महिलाओं के विरुद्ध अपराध की खबरें आए दिन न्यूज़ चैनलों और अखबारों में प्रकाशित होती रहती है । बावजूद इसके महिलाएं सबक नहीं लेती और भावनाओं में बहकर अपनी मर्यादाएं लांघ जाती है जिसका खामियाजा उन्हें बाद में भुगतना पड़ता है ।

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
502FansLike
50FollowersFollow
800SubscribersSubscribe

अधिवक्ता संघ चुनाव के मतपत्रों की गिनती फिर से होः अधिवक्ता...

जिला अधिवक्ता संघ चुनाव में गड़बड़ी की आशंका को लेकर अधिवक्ताओं के एक वर्ग ने चुनाव अधिकारी को ज्ञापन सौंप कर पुनः मतगणना कराए...

Related News

- Advertisement -