राष्ट्रपति चुनाव के लिए NDA ने द्रौपदी मुर्मू को बनाया उम्मीदवार, जानिए पार्षद से राष्ट्रपति उम्मीदवारी तक द्रौपदी मुर्मू का सफरनामा

- Advertisement -

नई दिल्ली/स्वराज टुडे: राष्ट्रपति चुनाव को लेकर एनडीए (NDA) ने अपने उम्मीदवार का ऐलान कर दिया है।

राष्ट्रपति पद के लिए आदिवासी महिला द्रौपदी मुर्मू को बीजेपी ने बनाया उम्मीदवार

पार्टी ने द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) को उम्मीदवार बनाया है। बीजेपी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा भाजपा संसदीय बोर्ड ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए 20 नामों पर चर्चा की, जिसके बाद पूर्वी भारत से एक आदिवासी महिला को चुनने का निर्णय लिया गया। राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू बीजेपी की उम्मीदवार होंगी।

बेहद गरीब आदिवासी परिवार में जन्म

द्रौपदी मुर्मू के जीवन के बारे में बात करें तो ओडिशा में सिंचाई और बिजली विभाग में एक कनिष्ठ सहायक से लेकर भाजपा के नेतृत्व वाले राजग की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार नामित होने तक का सफर आदिवासी नेता मुर्मू के लिए बेहद लंबा और मुश्किल भरा रहा है। राजग उम्मीदवार मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले में हुआ था। बेहद पिछड़े और दूरदराज के जिले से ताल्लुक रखने वालीं मुर्मू ने गरीबी और अन्य समस्याओं से जुझते हुए भुवनेश्वर के रमादेवी महिला कॉलेज से कला में स्नातक किया और ओडिशा सरकार के सिंचाई और बिजली विभाग में एक कनिष्ठ सहायक के रूप में अपना करियर शुरू किया था।

पार्षद के रूप में राजनीतिक जीवन की शुरूआत

संथाल समुदाय से आने वाली मुर्मू ने 1997 में रायरंगपुर नगर पंचायत में एक पार्षद के रूप में अपना राजनीतिक जीवन शुरू किया। बाद में वे रायरंगपुर राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की उपाध्यक्ष बनीं। 2013 में वह पार्टी के एसटी मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य के पद तक पहुंचीं। द्रौपदी मुर्मू ओडिशा में भारतीय जनता पार्टी और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान, 2000-2002 तक वाणिज्य और परिवहन के लिए स्वतंत्र प्रभार और 6 अगस्त, 2002 से मई तक मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास राज्य मंत्री थीं।

सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए ‘नीलकंठ पुरस्कार’ से किया गया सम्मानित

मुर्मू को 2007 में ओडिशा विधानसभा द्वारा वर्ष के सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए नीलकंठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। रायरंगपुर से दो बार विधायक रहीं मुर्मू ने 2009 में तब भी अपनी विधानसभा सीट पर कब्जा जमाया था, जब बीजद ने राज्य के चुनावों से कुछ हफ्ते पहले भाजपा से नाता तोड़ लिया था, जिसमें मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की पार्टी बीजद ने जीत दर्ज की थी।

व्यक्तिगत त्रासदियों से भरा जीवन

मुर्मू का विवाह श्याम चरण मुर्मू से हुआ था और दंपती के तीन संतान हैं- दो बेटे और एक बेटी। मुर्मू का जीवन व्यक्तिगत त्रासदियों से भरा रहा है क्योंकि उन्होंने अपने पति और दोनो बेटों को खो दिया है। उनकी बेटी इतिश्री का विवाह गणेश हेम्ब्रम से हुआ है।

निर्वाचित होने के बाद बनेंगी पहली आदिवासी राष्ट्रपति

वह साल 2000 और 2004 में ओडिशा (Odisha) के रायरंगपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक थीं। वह 2015 में झारखंड (Jharkhand) के राज्यपाल (Governor) के रूप में शपथ लेने वाली पहली महिला थीं। वह राज्यपाल नियुक्त होने वाली पहली महिला आदिवासी नेता रही हैं। निर्वाचित होने के बाद द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति (President) और दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी। इसके अलावा वे ओडिशा से भी प्रथम राष्ट्रपति होंगी। उन्होंने राजनीति और समाज सेवा में लगभग दो दशक बिताए हैं।

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
501FansLike
50FollowersFollow
780SubscribersSubscribe

हिन्दू नववर्ष धूमधाम से मानने को लेकर आयोजन समिति द्वारा आयोजित...

सामाजिक संगठन, नगर की सभी धार्मिक मठ मंदिरों से जुड़े लोग माता बहनें युवा साथी नगर के प्रबुद्ध जन सभी सम्मिलित हुए बिलासपुर/स्वराज टुडे:- खाटू...

Related News

- Advertisement -