छत्तीसगढ़
रायपुर/स्वराज टुडे: योग उत्सव 100 दिन काउंटडाउन फॉर योग दिवस 2022 के अंतर्गत राष्ट्रीय सेवा योजना दुर्गा महाविद्यालय एवं नेहरू युवा केंद्र रायपुर छत्तीसगढ़ युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त तत्वाधान में प्राणायाम का वैज्ञानिक प्रभाव पर चर्चा का आयोजन किया गया जिसमें विभिन्न कॉलेजों के विद्यार्थियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।  साथ ही महाविद्यालय के प्राध्यापक एवं ऑफिस स्टाफ का सहयोग रहा।

राष्ट्रीय सेवा योजना की कार्यक्रम अधिकारी सुनीता चंसोरिया ने मंच संचालन किया एवं बताया कि योग का हमारे जीवन में क्या महत्व है । हमें सूर्य नमस्कार प्रतिदिन करना चाहिए। प्राचार्य प्रतिभा मुखर्जी साहूकार मैडम ने बताया कि प्राचीन समय से हम योग करते आ रहे हैं। भारत से यह विदेशों में पहुंचा और आज विदेशों में भी इसका महत्व सभी को समझ में आने लगा है । योग हमारे दिनचर्या का एक रिश्ता है। नेहरू युवा केंद्र के जिला अधिकारी श्री अर्पित तिवारी जी ने बताया कि हमारे जीवन में योग का कितना महत्व है। कोरोना के समय इसका महत्व प्रत्येक व्यक्ति ने जाना है और आज समय के साथ यह परिवर्तन आया है कि प्रत्येक व्यक्ति अब योग करने लगा है।

मुख्य वक्ता के रूप में आए रविशंकर साहू जी सहायक प्राध्यापक विवेकानंद इंस्टिट्यूट फॉर ह्यूमन एक्सीलेंस कॉलेज डिवीजन विवेकानंद विद्यापीठ कोटा रायपुर ने प्राणायाम का वैज्ञानिक प्रभाव पर आपने बताया कि मानव शरीर में स्थित पंचप्राण और पंचप्राण कैसे कार्य करते हैं और किस प्रकार से प्राणायाम के द्वारा इन प्राणवायु का नियमन हम कर सकते हैं । पांच ज्ञानेंद्रियों व 4 अंत करण सर्वश्रेष्ठ प्राण ही है। अनुलोम विलोम प्राणायाम, कपालभाति प्राणायाम, उज्जाई प्राणायाम, शीतली प्राणायाम और भ्रमरी प्राणायाम के वैज्ञानिक प्रभाव से उपस्थित सभी विद्यार्थियों और प्राध्यापकों को अवगत कराया। अंत में सी सर्टिफिकेट 2021 के विद्यार्थियों को प्रदान किया गया ।