छत्तीसगढ़
दुर्ग/स्वराज टुडे: दुर्ग जिले के लिटिया चौकी क्षेत्र अंतर्गत सरपंच पति की हत्या मामले का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। आरोपी कोई और नहीं बल्कि गांव का ही एक युवक निकला है। आरोपी ने सरपंच पति की हत्या अतिक्रमण को रुकवाये जाने से नाराज होने पर नदी में डुबाकर मार दिया था।

ये है पूरा मामला

दरसअल, ग्राम डोड़की व शिवकोकड़ी की सरपंच बीनाबाई निषाद के पति कौशल निषाद (55वर्ष) का शव नदी में मिला था। सरपंच पति गुरुवार को पत्नी बीनाबाई को नहाने जाने की बात कहकर घर से निकला था। दोपहर तक जब वो घर नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी पतासाजी शुरू की।

पतासाजी के दौरान आमनेर नदी के किनारे उसका कपड़ा और चप्पल पड़ा हुआ मिला। इसके बाद घरवालों ने नदी के आसपास काफी खोजबीन की, लेकिन वह कहीं नहीं मिला। गांव वालों और पुलिस को परिजनों ने घटना की जानकारी दी। सूचना मिलते ही लिटिया पुलिस ने तलाश शुरू की।

इस बीच कौशल निषाद का शव नदी में मिला। शव मिलने के बाद पुलिस ने जांच के दौरान गांव के एक संदेही तामेश्वर पटेल को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की । पूछताछ में आरोपी ज्यादा देर पुलिस को गुमराह नहीं कर पाया और हत्या करने की बात कबूल की।

तो इसलिए आरोपी ने कर दी सरपंच पति की हत्या

घटना के संबंध में दुर्ग पुलिस ने बताया कि देऊरकोना में रहने वाले कौशल निषाद की हत्या गांव के ही तामेश्वर पटेल ने की थी। सरपंच पति ने आरोपी द्वारा गांव के नदी किनारे किए जा रहे अतिक्रमण को रुकवा दिया था। पंचायत की ओर से आरोपी को नोटिस भी जारी किया गया था।

गुरूवार सुबह नहाने जाते समय दोनो की मुलाकात  हुई तो सरपंच पति ने आरोपी को गुंडा कह दिया । इससे नाराज होकर आरोपी ने सरपंच पति को घसीटते हुए नदी में डूबकर उसकी हत्या कर दी थी। हत्या वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गया था। फिलहाल इस मामले में आरोपी से पूछताछ जारी है।