NEET की तैयारी कर रही बिलासपुर की छात्रा की कोटा में हत्या, बॉयफ्रेंड पर हत्या का शक

- Advertisement -

छत्तीसगढ़
बिलासपुर/स्वराज टुडे: छत्तीसगढ़ की एक 17 साल की छात्रा की राजस्थान के कोटा में किडनैप कर हत्या कर दी गई है। बिलासपुर की रहने वाली ये छात्रा कोटा में 12 वीं की पढ़ाई के साथ ही NEET की तैयारी कर रही थी। प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक एक माह पहले ही उसने कोटा में दाखिला लिया था और वह छात्रा तीन दिन से लापता थी।

3 दिनों से लापता थी छात्रा

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक छात्रा कोटा के जवाहर नगर थाना क्षेत्र एक हास्टल में रहती थी। छात्रा का शव रावतभाटा रोड स्थित कोटा डैम के पास जंगलों में बुधवार देर शाम मिला है। पुलिस दो दिनों से लापता छात्रा को तलाश कर रही थी। पुलिस ने मंगलवार को ही अपहरण का केस दर्ज किया था।

छात्रा का नाम आलिया खान (17 ) बताया जा रहा है. वहीं वे न्यू राजीव गांधी नगर में हॉस्टल में रहकर एलन कोचिंग संस्थान से मेडिकल की तैयारी कर रही थी। वह 12वीं में थी। दो दिन पहले उसका फोन बंद आया तो परिजनों ने कोटा पुलिस से संपर्क किया। छात्रा की लोकेशन कोटा डैम के पास मिली थी।

छात्रा से मिलने गुजरात से आया था युवक

जिस कोचिंग छात्रा आलिया की हत्या की गई है, वो पिछले कुछ समय से गुजरात निवासी एक युवक के संपर्क में था। प्रथम दृष्टया दोनों की दोस्ती सोशल मीडिया के माध्यम से होना सामने आया है। पड़ताल में सामने आया है कि युवक 4 जून को गुजरात से कोटा आया था।वो 5 जून को छात्रा के संपर्क में आया और दोनों घूमने के लिए कोटा डैम की तरफ गए थे। उसके बाद से छात्रा लापता थी, लेकिन, युवक ने न तो पुलिस से संपर्क किया और न छात्रा के परिजनों को कुछ बताया।

बॉयफ्रेंड पर घूमी शक की सुई

पुलिस को शक है कि छात्रा की हत्या, इसी युवक ने की है।  पुलिस जांच में सामने आया कि युवक गुजरात फरार हो गया है। बुधवार रात को कोटा पुलिस की टीमें गुजरात के लिए रवाना हो गई हैं। अब युवक की गिरफ्तारी के बाद ही छात्रा की हत्या का खुलासा होने की उम्मीद है ।

पालकों को सावधान रहने की जरूरत 

बता दें कि आज शिक्षा के क्षेत्र में कॉम्पिटिशन बहुत बढ़ गया है । हर माता-पिता अपने बच्चों को शीर्ष पर देखना चाहते हैं । राजस्थान के कोटा शहर को देश का सबसे बड़ा एजुकेशन हब माना जाता है । देश के विभिन्न  इलाके से छात्र छात्राएं यहां आकर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं । लेकिन यहाँ पढ़ने आने वाले छात्र छात्राओं को ये नहीं भूलना चाहिए कि उनके पालक कितनी तकलीफें सहकर और कितने विश्वास के साथ उन्हें यहां पढ़ाई करने भेजे हैं । इसलिए उन्हें अपने जीवन शैली को सादा और मर्यादित रखने की बहुत आवश्यकता है । उधर पालकों को चाहिए कि वे अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए अन्यत्र भेजते समय अपने बच्चों को नैतिक ज्ञान अवश्य दें । मन भटकाने वाले विभिन्न माध्यमों से उन्हें दूर रहने की सलाह दें । उन्हें विषम परिस्थितियों का सामना करने की सलाह दें ताकि इस तरह की घटनाओं को टाला जा सके ।

 

दीपक साहू

संपादक

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -
502FansLike
50FollowersFollow
800SubscribersSubscribe

अधिवक्ता संघ चुनाव के मतपत्रों की गिनती फिर से होः अधिवक्ता...

जिला अधिवक्ता संघ चुनाव में गड़बड़ी की आशंका को लेकर अधिवक्ताओं के एक वर्ग ने चुनाव अधिकारी को ज्ञापन सौंप कर पुनः मतगणना कराए...

Related News

- Advertisement -